Sunday, May 10, 2009

मेरी माँ !!!


मातृत्व दिवस की शुभ युति पर आये माँ की स्तुति करें। उनका गुण अनुवाद करें॥

आज सुबह जब दैनिक भास्कर अख़बार उठाया तो पाया की , बहुत कुछ लिखा गया है, और बहुत ही संवेदनात्मक लिखा गया है, मन हुआ हम भी माँ के बारे मे लिखें, कुछ कहें माँ के लिए... अपना कहें उससे पहले अख़बार मे जो पढ़ा और मन बना उसकी बात करते हैं,

मुनव्वर राणा का ashaar है,

मुनव्वर माँ के आगे, yun कभी खुल कर मत रोना,

jahan buniyad हो, इतनी nami achchhi नही होती॥

आँखें नम हो गई,

nida fazali sahab भी क्या कहते हैं ,गौर kariye-

besan की saundhi roti पर khatti chatni जैसी माँ,

याद आती है chauka baasan,chimta fukni जैसी माँ॥

बीवी,बेटी,बहन,padosan,thodi-२ si सब मे,

दिन bhar एक rassi के ऊपर chalti natni जैसी माँ॥

इसके अलावा भी , Chndrakant devtaale,विष्णु naagar,Manglesh Dabraal,राजकुमार kesvani,leeladhar mandloi जैसे siddh hast लोगो ने माँ की स्तुति मे कोई kami नही rakhi,

इसके अलावा भी जितना जो भी chhapa, kafi sparshi lagga॥

इतनी सुंदर baton को पढने के बाद, मेरा मन koutuk करने लगा की वो ऐ सब किस से कहे, तो मैं आ गया, इस peepal के नीचे॥

jahan हम सब जमा है,

माँ दूर है, पर pal-२, विचार मे रहती है,

kehti है, क्या khaya , सुबह से ??

मैं, कहता मन ही मन, माँ, bhukha hun,

अभी नही kia नाश्ता,

वो हो jati है shunya, aankho मे bhar दो aansu,

pallu से paunchh लेती है, khaara pan,

पता है उसे, कितना namkeen पसंद है bete को॥

drudhtaa से puchhti है, kyun, laaparvahi॥

वो puchhti फ़ोन पर , कैसा चल rahaa है सब,

जान कर भी, की सब ruka हुआ है, उसके बिना॥

ehsaas dilati है, की, rukna नही है zindagi, किसी भी तरह॥

abhav से ऊपर भी होगी baten एक दिन।

kahti है माँ, और फिर paunchh लेती है pallu से aansu।

pankha nhai उसके, पर मन मे parvaaz बहुत हैं,

वो आ कर sahla jati है, tab-२ जब-२ nibatti है, chauke से,

और jhaank कर देख jati है, tab, जब मे soya हुआ होता hun,

कई bar देखा है सुबह,कोई dhank जाता है chadar ,

रात की badhi हुई shardi-garmi के mutabik॥

उसकी बहुत ichchha है, मेरा घर हो बड़ा sa इस शहर मे,

shadi हो, मेरे bachche हों, वो सब मेरे लिए जुटा देना chahti,

और हो जाना chahti बहुत खुश॥

जब-२ मैं बढ़ता hun एक भी paydaan,

वो paunchh कर दो bund aansu pallu से,

lapet लेती है मुझे, aanchal मे,

मेरी माँ को पता है, की मुझे कितना namkeen पसंद है॥

मैंने माँ के लिए likhi कुछ और कवितायें ब्लॉग मे post kee हैं, अगर आप पढ़ना चाहते हैं तो zurur नीचे likhi link को click करें।

http://29rakeshjain.blogspot.com/2008/05/blog-post_11.html

http://29rakeshjain.blogspot.com/2008/05/blog-post_5529.html

http://29rakeshjain.blogspot.com/2008/05/blog-post_10.html

takniki khamiyon से कुछ कमी है , post के proper visualization मे, kshama करे, पर मैं इस post मे देर नही करना चाह रहा krupya, मेरी mano दशा को समझें.

8 comments:

Nirmla Kapila said...

dil ko chhoone vali post hai shubhkaamnaye

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

मातृ-दिवस की शुभ-कामनाएँ।

राजकुमार ग्वालानी said...

मां तूने दिया हमको जन्म
तेरा हम पर अहसान है
आज तेरे ही करम से
हमारा दुनिया में नाम है
हर बेटा तुझे आज
करता सलाम है

Udan Tashtari said...

आभार इस प्रस्तुति का..


मातृ दिवस पर समस्त मातृ-शक्तियों को नमन एवं हार्दिक शुभकामनाऐं.

कंचन सिंह चौहान said...

kavita vaqai bahut samvedanshil thi.

राकेश जैन said...

Shukria !!!

sa said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛

aa said...

角色扮演|跳蛋|情趣跳蛋|煙火批發|煙火|情趣用品|SM|
按摩棒|電動按摩棒|飛機杯|自慰套|自慰套|情趣內衣|
live119|live119論壇|
潤滑液|內衣|性感內衣|自慰器|
充氣娃娃|AV|情趣|衣蝶|
G點|性感丁字褲|吊帶襪|丁字褲|無線跳蛋|性感睡衣|